search
होम    कुलपति का संदेश
कुलपति का संदेश
डॉ. चिन्दी वासुदेवप्पा

खाद्य प्रस्संकरण उद्योग के प्रमुख क्षेत्रों में अनुसंधान के नए आयाम स्थापित करने तथा नवोपायों एवं बाजारोन्मुख क्षेत्रों में विश्वस्तरीय शिक्षा प्रदान करने के लिए स्थापित, निफ्टेम में, मैं आज इस अवसर पर आप सभी का स्वागत करता हूं ।

यह अत्यंत ही हर्ष का विषय है कि आज हम सभी यहां आगामी 16 अगस्त, 2012 से प्रारम्भ होने जा रहे निफ्टेम के पहले सत्र में निफ्टेम परिवार के रूप में एकत्र हुए हैं । खाद्य प्रस्संकरण उद्योग मंत्रालय द्वारा स्थापित निफ्टेम को एआईसीटीई तथा विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की सिफारिशों के आधार पर भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा मान्य‍ताप्राप्त विश्वविद्यालय (डे-नोवा श्रेणी के अंतर्गत) के रूप में अधिसूचित किया गया है । निफ्टेम में हम अनुसंधान एवं शैक्षणिक उत्कृष्टता के माध्यम से खाद्य प्रस्संकरण सेक्टर के लिए खाद्य प्रौद्योगिकी एवं उद्यम प्रबंधन के दोनों गुणों से सम्पन्न निपुण जनशक्ति की आवश्य‍कताओं की पूर्ति करते हैं । सदैव हमारा यह प्रयास रहा है कि हम आपको विश्व स्तर श्रेणी के अत्याधुनिक माहौल में शिक्षा प्रदान करें । अपने इसी लक्ष्य की पूर्ति के लिए निफ्टेम में भारत तथा विदेश से प्रतिभा सम्पन्न एवं समर्पित संकाय की नियुक्ति की गई है । यह संकाय आपको सार्वभौमिक एवं चुनौतीपूर्ण कार्य परिवेश के लिए अद्यतन सामग्री के साथ आपको व्यवहारिक प्रशिक्षण प्रदान करेगा । आपको अंतर्राष्ट्रीय अन्वेषकों तथा विश्व स्तर पर अनेक विद्यार्थियों से चर्चा करने तथा ज्ञान प्राप्त करने के अवसर प्राप्त होगें । मुझे विश्वास है कि यहां प्रवास के दौरान आपको प्राप्त होने वाली उपलब्धियों से खाद्य प्रसंस्क्रण के चलायमान क्षेत्र में सफलता प्राप्ति के लिए आपका तकनीकी ज्ञान एवं प्रबंधकीय क्षमता विकसित हो सकेगी । हमारा प्रमुख ध्यान आपकी पूर्ण क्षमताओं के पूर्णत: उपयोग द्वारा, आपको कैरियर की सफलता के लिए अपेक्षित ज्ञान, मूल्यों एवं निपुणता से समृद्ध करने की ओर केन्द्रीत रहेगा ।

मैं आश्वस्त़ हूं कि आने वाले वर्षों में आप में से प्रत्येक भारत का एक बेहतर मनुष्य , एक उत्तरदायी एवं उद्यमी नागरिक बनेगा तथा आप अपने इस पथप्रर्दशक संस्थान से प्राप्त ज्ञान का लाभ उठाते हुए सफलता की प्राप्ति की ओर आगे कदम बढ़ा सकेगें और गर्व से यह कहेगें कि आप निफ्टेम के विद्यार्थी रहे हैं ।

मैं आप सभी के लिए सत्र 2015-16 की सफलता और अनुकूलता की कामना करता हूं ।